मुकेश अंबानी के बचपन की फोटो इंटरनेट पर वायरल हैं , मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें आपको भी हैरान कर देंगी

मुकेश अंबानी के बचपन की फोटो इंटरनेट पर वायरल हैं , मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें आपको भी हैरान कर देंगी
मुकेश अंबानी की बचपन की फोटो - Mukesh Ambani's childhood photo

मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं, मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें आपको भी कर देंगी हैरान मुकेश अंबानी रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख और दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक हैं। वह अपनी उपलब्धियों के लिए लगभग सुर्खियों में हैं। उन्होंने हजारों लोगों को रोजगार दिया है और देश की प्रगति में योगदान दिया है। उन्हें डिजिटल इंडिया क्रांति शुरू करने में मदद करने का श्रेय भी दिया जाता है।

मुकेश अंबानी का जन्म 19 अप्रैल 1957 को अदन, यमन में हुआ था। वह और उनके पिता धीरूभाई अंबानी बाद में भारत आ गए। कहा जाता है कि जब मुकेश अंबानी पहली बार मुंबई आए थे, तब वे और उनका परिवार भुलेश्वर के एक छोटे से दो बेडरूम के अपार्टमेंट में रहते थे।

मुकेश अंबानी के बचपन की फोटो इंटरनेट पर वायरल

मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें

मुकेश अंबानी के बचपन के बारे में मजेदार तथ्य

मुकेश अंबानी का जन्म 19 अप्रैल 1957 को अदन, यमन में हुआ था। तब उनके पिता धीरूभाई अंबानी करीब 8 साल तक जीवित रहे। फिर वे मुंबई आ गए और मसालों का कारोबार शुरू किया। यहां वे अपनी पत्नी कोकिलाबेन और चार बच्चों मुकेश अंबानी, अनिल अंबानी, दीप्ति सालगांवकर और नीना कोठारी के साथ एक साधारण से दो कमरे के घर में रहने लगे। यह घर भुलेश्वर जय हिंद एस्टेट (जिसे अब वनीला हाउस के नाम से जाना जाता है) में था। वह 1970 तक इस घर में रहे।

धीरूभाई अंबानी ने अपनी सूझबूझ से अपने बिजनेस को एक अलग ही मुकाम पर पहुंचाया। वे खूब पैसा कमाने लगे। फिर उन्होंने भुलेश्वर चॉल को छोड़ दिया और कोलाबा के सी विंड अपार्टमेंट में रहने लगे। हैरान करने वाली बात ये थी कि यहां उन्होंने 14 फ्लोर का एक पूरा ब्लॉक खरीद लिया था।

मुकेश अंबानी के बचपन की तस्वीरें

Free Silai Machine Yojana 2022: फ्री सिलाई मशीन योजना Registration Form

मुकेश अंबानी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि उन्हें बचपन से ही पैसा कमाने में कोई दिलचस्पी नहीं थी। उन्हें केवल नई चीजें सीखने में दिलचस्पी थी। मुकेश ने अपनी स्कूली शिक्षा हिल ग्रेंज हाई स्कूल, पेडर रोड से की। उन्होंने एक बार फिल्म ‘द ग्रेजुएट’ देखी। इसमें उन्होंने केमिकल इंजीनियरिंग करने का मन बनाया। ऐसे में उन्होंने बी.ई. इंस्टीट्यूट ऑफ केमिकल टेक्नोलॉजी, माटुंगा से केमिकल इंजीनियरिंग में। किया है उनका चयन आईआईटी बॉम्बे में भी हो गया था।

उसके बाद मुकेश अंबानी MBA करने के लिए अमेरिका की स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी चले गए। हालांकि उनके पिता का मानना था कि इंसान पढ़ाई से ज्यादा अपने संघर्षों से सीखता है। वह व्यावहारिक ज्ञान में अधिक विश्वास करते थे। इसलिए उन्होंने मुकेश की पढ़ाई बीच में ही छोड़ दी थी। उन्हें भारत बुआ और पॉलिएस्टर फिलामेंट यार्न (पीएफवाई) निर्माण परियोजनाओं के प्रबंधन का काम सौंपा गया था। मुकेश ने इस जिम्मेदारी को भी बखूबी निभाया और अपनी मेहनत और हुनर से अपने पिता के बिजनेस को एक नए मुकाम तक पहुंचाया।

मुकेश अंबानी अक्सर 2 बजे तक पढ़ाई करते थे। विज्ञान और प्रौद्योगिकी में उनकी अधिक रुचि थी। हो सकता है कि अपनी रुचि के कारण वह Jio को भारत में लाए और डिजिटल इंडिया की छवि बदल दी।